शनिवार, सितंबर 01, 2012

सपने।


मेरी आंखों में जब देखे सपने,

मुझसे बोला  मुझे देदो सपने,

पैसा चाहे जितना भी लेलो,

बेच दो मुझे अपने सपने।

पैसे नहीं है तुम्हारे पास,

क्यों सजाये है सुनहरे सपने,

नहीं कर पाओगे पैसे बिना,

पूरे तुम अपने सपने।

क्रोधित होकर बोला  मुझसे,

लेले  पैसे, देदे  सपने।

 

नहीं नहीं मैं नहीं दूंगा,

अपनी आंखो के सपने,

मैं कंगाल हूं, नहीं है पैसे,

मेरे पास है केवल सपने,

चन्द पैसों में  बेच दूं  अगर,

अपनी आंखों के सुनहरे  सपने,

कल पैसों में भी नहीं मिलेंगे

ऐसे सुन्दर प्यारे सपने।

कभीसोता हूं राज महल में,

कभी देखता हूं गाड़ी के सपने।

करता हूं विवाह अपस्रा से,

देखता हूं कयी रानियों के सपने।

 

नहीं नहीं मत छीनो मुझसे,

रहने दो मेरी आंखों में सपने,

हम ग्रीब हैं, हमतो बस,

देख सकते हैं केवल  सपने।

धन नहीं है, दौलत नहीं है,

हमारे पास है केवल सपने।

 

7 टिप्‍पणियां:

  1. लीजिये
    मैं आ गई
    अब आपकी रचना भी प्रकाशित हो जाएगी

    उत्तर देंहटाएं
  2. सपने अपने होते है
    सबसे अनमोल होते है..
    बहुत सुन्दर रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. नहीं नहीं मत छीनो मुझसे,
    रहने दो मेरी आंखों में सपने,..

    सच है की आँखों के सपने खुदको जीने का अवसर मिलना चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. धन्यवाद आप सब का... मेरी रचना आप ने पढ़ी एवम् टिप्पणी की आभार

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !