मंगलवार, अगस्त 27, 2013

आना श्याम...



टूट गये हैं दिलों के बंधन,
उदास है हर घर आंगन,
जन्म हुआ था प्रेम का जिससे,
वो बंसी तुम  पुनः बजाओ...

अस्त हो गया धर्म का सूरज,
धुमिल हो गयी दिशा पूरव,
पथ भ्रष्ट हैं आज सभी,
गीता का अर्थ समझाओ...

नहीं भाता भीड़ बाजार,
जहां भी जाओ है अंधकार,
मन उदास है कहां जाएं,
श्याम अब आकर रास रचाओ... 
वचन तुम्हे निभाना होगा,
सुदर्शन पुनः उठाना होगा,
अस्तित्व धर्म का बचाना होगा,
आना  श्याम जल्दि आओ...

12 टिप्‍पणियां:

  1. तजे न लोभ
    रुद्र मिली उपाधि
    गोपीनाथ की
    कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर आह्वान,बधाई
    आपकी यह रचना कल बुधवार (28-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण : 99 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.
    सादर
    सरिता भाटिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज की बुलेटिन ऋषिकेश मुखर्जी और मुकेश .... ब्लॉग बुलेटिन में आपकी पोस्ट (रचना) को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर कविता .
    जन्माष्टमी की शुभकामनाएं .
    परती परिकथा : कोसी की
    http://dehatrkj.blogspot.com/2013/08/blog-post_25.html

    उत्तर देंहटाएं



  5. _/\_
    जयश्री कृष्ण !
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयां और शुभकामनाएं !
    ✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿



    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर पुकार ...

    आप सभी मित्रों को कान्हा के अवतरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाये !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!
    कभी यहाँ भी पधारें
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  8. आओ श्याम गिरधारी , तोरि रे बलिहारि ..जल्दी आओ श्याम । सच कहा आपने और क्या खूब कहा । सुंदर पंक्तयां

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं
  10. महाभारत की भूमिका तैयार है - पर अर्जुन कहाँ हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  11. हम बन जाये अर्जुन तब कृष्ण को आना ही होगा..

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !