शुक्रवार, अक्तूबर 25, 2013

जय, जय, जय शोभन सरकार...



आने वाले हैं अब चुनाव,
कहां है सौना मुझे बताओ,
कृपा करो मुझ पर अब,
जय, जय, जय  शोभन सरकार...

मिलता मुझे येसौना सारा,
चमक जाता भाग्य का  सितारा,
देता नोट, लेता वोट,
जय, जय, जय  शोभन सरकार...

जंता के बीच कैसे जाऊं,
क्या अपनी मजबूरी बताऊं,
न कर सका पूरे चुनावी वादे,
जय, जय, जय  शोभन सरकार...

रात को अब नींद न आती,
दिन को  कुर्सी की चिंता सताती,
जो भी कहो,  मैं दूंगा जीतकर,
जय, जय, जय  शोभन सरकार...

जब जीतकर मैं आऊंगा,
तुम्हारे मंदिर को महल बनाउंगा,
तुम्हे विश्व ख्याती दिलाउंगा
जय, जय, जय  शोभन सरकार...


12 टिप्‍पणियां:

  1. गंडा बाँधे फूँक कर, थू थू कर ताबीज |
    गड़ा खजाना खोद के, रहे हाथ सब मींज |

    रहे हाथ सब मींज, मरी चुहिया इक निकली |
    करे मीडिया मौज, उड़ा के ख़बरें छिछली |

    रकम हुई बरबाद, निकलते दो ठो हंडा |
    इक तो भ्रष्टाचार, दूसरा प्रोपेगंडा |

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    उत्तर देंहटाएं
  3. इत शोभन सरकार हैं, उत शोभा सरकार |
    इत सोना का प्यार है, उत सोना धिक्कार |
    उत सोना धिक्कार, बड़ा सस्ता है सोना |
    मँहगाई की मार, पड़ा है छूछ भगोना |
    सपने पे इतबार, पांच रुपये में भोजन |
    मंत्री मारे मौज, मौज मारे इत शोभन ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन सब 'उल्टा-पुल्टा' चल रहा है - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! बहुत ख़ूबसूरत... www.sriramroy.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (28.10.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    उत्तर देंहटाएं
  7. जय हो शोभन सरकार ... सरकार की लाज तुम्हारे हाथों है अब ...
    मस्त रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. व्यंग्य विडंबन है ये हमारे दौर का जिसका बस मज़ाक ही उड़ाया जा सकता है। बढ़िया प्रस्तुति।

    उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले में डौंडिया खेड़ा गाँव के एक खंडहरनुमा किले में सोने की खोज में जुटी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) की टीम को आठ दिन की खुदाई के बाद कुछ लोहे की कीलें, चूड़ियों के टुकड़े और मिट्टी के चूल्हे मिले हैं.

    अभी "कोयला "और चारा भी निकलेगा सेकुलरों का।

    उत्तर देंहटाएं
  9. जय जय जय शोभन सरकार ,बचा लो हमारी सरकार |
    नई पोस्ट सपना और मैं (नायिका )

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !