शनिवार, नवंबर 02, 2013

आयी दिवाली मिलकर मनाएं...




***आप***सब को****पावन***पर्व***दिवाली की***अनंत***शूभकामनाएं****
दोस्त दुशमन साथ आयें,
गिले-शिकवे सब भूल जाएं,
पर्व है ये मानवता का,
आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

हिन्दू सिख मुस्लमान,
है एक धरा के सब इनसान,
लड़ने के लिये हमने मजहब बनाए,
आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

लड़ियां ,  मौमबत्तियां भले जलाना,
दिपक को मत भूल जाना,
परंप्रा  को  न भुलाएं,
आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

जी भरके करना दान,
सब अधरों पर लाना मुस्कान,
कहीं निर्धनों  को न भूल जाएं,
आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

मां से मांगना केवल ये वर,
दरिद्र न रहे कोई धरा पर,
हर घर में अपना स्थान बनाएं,
आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,


13 टिप्‍पणियां:

  1. काश
    जला पाती एक दीप ऐसा
    जो सबका विवेक हो जाता रौशन
    और
    सार्थकता पा जाता दीपोत्सव

    दीपपर्व सभी के लिये मंगलमय हो ……

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपको और आपके पूरे परिवार को दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    स्वस्थ रहो।
    प्रसन्न रहो हमेशा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (03-11-2013) "बरस रहा है नूर" : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1418 पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    प्रकाशोत्सव दीपावली की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं


  4. शुभ भावना और भाव से संसिक्त सुन्दर प्रस्तुति :

    दोस्त दुशमन साथ आयें,(दुश्मन )
    गिले-शिकवे सब भूल जाएं,
    पर्व है ये मानवता का,
    आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

    हिन्दू सिख मुस्लमान,(हिन्दु )
    है एक धरा के सब इनसान,(इंसान )
    लड़ने के लिये हमने मजहब बनाए,
    आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

    लड़ियां , मौमबत्तियां भले जलाना,
    दिपक को मत भूल जाना,(दीपक )
    परंप्रा को न भुलाएं,(परम्परा )
    आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

    जी भरके करना दान,
    सब अधरों पर लाना मुस्कान,
    कहीं निर्धनों को न भूल जाएं,
    आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

    मां से मांगना केवल ये वर,
    दरिद्र न रहे कोई धरा पर,
    हर घर में अपना स्थान बनाएं,
    आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर .दीपोत्सव की मंगलकामनाएँ !!
    नई पोस्ट : कुछ भी पास नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर सुविचार प्रस्तुत करती रचना !
    दीपावली की शुभकामनाएं !
    नई पोस्ट आओ हम दीवाली मनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही बढ़िया
    दीप पर्व आपको सपरिवार शुभ हो !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आमीन ... कोई दरिद्र न रहे ... सबको खुशियां मिलें ...
    दीप पर्व की हार्दिक बधाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह!!! बहुत सुंदर !!!!!
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई--

    उजाले पर्व की उजली शुभकामनाएं-----
    आंगन में सुखों के अनन्त दीपक जगमगाते रहें------

    उत्तर देंहटाएं
  10. शुभभावना शुभ कामना से प्रेरित सुन्दर सौद्देश्य रचना। आभार आपकी टिपण्णी का। ये टिपण्णी कभी कभार लेखन की आंच को दहका देतीं हैं।

    ***आप***सब को****पावन***पर्व***दिवाली की***अनंत***शूभकामनाएं****
    दोस्त "दुशमन" साथ आयें,
    गिले-शिकवे सब भूल जाएं,
    पर्व है ये मानवता का,
    आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

    हिन्दू सिख मुस्लमान,
    ""है" एक धरा के सब
    "इनसान ","लड़ने के लिये हमने मजहब बनाए,
    आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,

    लड़ियां , मौमबत्तियां भले जलाना,
    दिपक को मत भूल जाना,
    "परंप्रा" को न भुलाएं,
    आयी दिवाली, मिलकर मनाएं,
    ,परम्परा
    (शुभकामनाएं ,दुश्मन ,"हैं "एक धरा के सब "इंसान ",परम्परा )

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर रचनात्मक लेखन।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर अनुरोध दीवाली का . . .

    उत्तर देंहटाएं

ये मेरे लिये सौभाग्य की बात है कि आप मेरे ब्लौग पर आये, मेरी ये रचना पढ़ी, रचना के बारे में अपनी टिप्पणी अवश्य दर्ज करें...
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ मुझे उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !